Business को legally रजिस्टर कैसे करे | How to legally register your business in Hindi

हेलो दोस्तों क्या आपके पास भी छोटा या बड़ा बिज़नेस है क्या आप भी स्टार्टअप कर रहे हो पर आप नहीं जानते हो की कैसे इसे legally रजिस्टर करना है। अपने किसी भी व्यापार को रजिस्टर करना बोहोत जरुरी है ताकि भविष्य में कोई समस्या आये तो हम इसे आसानीसे सुलझा सकते है। और इसीलिए आज में आपको यही बताने वाला हु की कैसे किसी भी बिज़नेस को सही और क़ानूनी तरीकेसे रजिस्टर किया जाता है।

दोस्तों किसी दूसरे देश से हमारे देश की तुलना की जाए तो हमारा देश बिज़नेस के मामले में थोड़ा तो पीछे ही है। इसका कारण है की व्यापार करने के लिए लगनेवाले सरकारी कागजाद जो किसी भी startup के लिए सरदर्द बन जाते है।

Business को legally रजिस्टर कैसे करे | How to legally register your business in Hindi
Business को legally रजिस्टर कैसे करे | How to legally register your business in Hindi

पर ये जरुरी भी है चाहे आपका बिज़नेस हो या स्टार्टअप हो छोटा हो या बड़ा आपको रजिस्टर करना ही होगा। Business को रजिस्टर करने से बोहोत सारे फायदे मिलते है जिसमे आपका बिज़नेस सुरक्षित हो जाता है उसपर stay नहीं आ सकता ऐसे बोहोत सारे फायदे है।

अगर अमेरिका में आप कंपनी चालू करना चाहो तो बोहोत आसान है आपको बोहोत सारे कागजाद बनवाने की जरुरत नहीं पड़ती। बोहोत ही कम सरदर्द और कम समय में आप कंपनी को ओपन कर सकते है।

लेकिन भले ही भारत में बिज़नेस या स्टार्टअप को चालू करना लंबा काम लगता हो पर ये बेहद जरुरी है। हमारे बिज़नेस या कंपनी के बारे में सरकार को भी पते चले और पारदर्शिता रहे इसीलिए ये हमें करना पड़ता है। बिना इन डाक्यूमेंट्स और रजिस्ट्रेशन के आपका बिज़नेस कहलाया नहीं जा सकता।

तो चलिए अभी हम देखते है की कैसे आप आपने business/कंपनी को legal तरीकेसे रजिस्टर कर सकते हो। चाहे आपका बिज़नेस नया हो पुराना हो तो इसके लिए भी देखेंगे और स्टार्टअप को भी कैसे रजिस्टर करते है ये भी जानेंगे।

Table of Contents

छोटे business को रजिस्टर कैसे करे

छोटे business को रजिस्टर कैसे करे
छोटे business को रजिस्टर कैसे करे

दोस्तों अगर आपका बिज़नेस छोटा है तो आपको निचे दिए गए स्टेप्स को फॉलो कर रजिस्टर करना होगा।

  1. सबसे पहले Digital signature प्राप्त करे
  2. Director identification number [DIN] को प्राप्त करना होगा
  3. Business/कंपनी नाम को सुरक्षित करना होगा
  4. बिज़नेस permanent account number [PAN] को प्राप्त करे
  5. नजदीकी बैंक में current account खोल ले
  6. Udyam registration कर ले
  7. GST registration करे
  8. चाहे तो बिमा या कर्मचारियों का बिमा करा ले

सबसे पहले Digital signature प्राप्त करे

दोस्तों ये आपके छोटे बिज़नेस के registration की शुरुवात है जिसमे आपको आपकी Digital signature तैयार करनी है। अब आप कहोगे की इसका फायदा क्या होगा, दोस्तों Digital signature ये आपके बिज़नेस को पहचान देने में मदत करेगा।

इस Digital signature से आप इंडिया में कहीभी ऑनलाइन काम और ऑनलाइन transaction कर सकते हो। इसमें filling annual return, income टैक्स इ-filling, e-tenders, आदि शामिल है।

Digital signature को कैसे प्राप्त करते है इसके बारे में जल्दी ही अपने ब्लॉग पर लिखूंगा सबसे पहले आपको जानने के लिए अभी हमारे कम्युनिटी से जुड़े।

Director identification number [DIN] को प्राप्त करे

DIN ये एक ८ अंक वाला नंबर होता है जो एक छोटी मोटी कंपनी को लगता ही है। ये निकलना आसान है एक ही दिन में आपको ये मिल जायेगा आप इसे ऑनलाइन भी पा सकते हो।

इसके ऊपर भी में जल्दी ही लिखूंगा आप हमारे कम्युनिटी से फ्री में जुड़े और सबसे पहले जानकारी को हासिल करे।

Business/कंपनी नाम को सुरक्षित करे

आपके बिज़नेस के नाम को सुरक्षित करना ये भी एक महत्त्वपूर्ण स्टेप है जो आपको करना पड़ेगा। आपके नाम को secure करने से उसे कोई दूसरा व्यक्ति इस्तेमाल नहीं कर सकता आपका नाम safe रहता है।

इसके लिए आपको INC-२९ नामक फॉर्म को भरना पड़ता है जिसमे आपके बिज़नेस के नाम को डालकर safe करते हो। आप check भी कर सकते हो की आपने जो नाम लिया है वो पहले से ही किसी ने लिया तो नहीं ना।

इसे भी में जल्दी ही आपके सामने लाऊंगा।

बिज़नेस permanent account number [PAN] को प्राप्त करे

अब PAN कार्ड तो आपको पता ही है क्या होता है PAN १० अंको वाला unique यानी सबके लिए अलग अलग होना नंबर होता है जो सबको निकालना पड़ता है।

अब आप कहोगे बिज़नेस/कंपनी के लिए भी पैन निकालना पड़ता है तो हां। वैसे तो पैन हम individual यानी खुद के लिए और दूसरा बिज़नेस/कंपनी/स्टॉर्टअप/ firm के लिए निकाला जाता है।

जिस तरह से personnel पैन में आपका खुद का नाम होता है उसी तरह से firm के पैन पर उस firm का नाम होता है। आप इसे NSDL के वेबसाइट से फॉर्म भरके पा सकते हो। आपको सिर्फ केटेगरी को Firm सेलेक्ट करना होगा और वेरिफिकेशन के लिए बिज़नेस का प्रूफ यानी प्रमाण के लिए GST प्रमाणपत्र, Udyam सर्टिफिकेट, और कुछ बाकि को चेक करके आप दे सकते हो।

नजदीकी बैंक में current account खोले

अब आप एक बिज़नेस कर रहे हो यानी पैसा कमा रहे हो जो किसी भी वक्त आता रहता है और जाता भी रहता है। इन पैसो के लिए आपको आपका पर्सनेल बैंक खाता नहीं यूज़ कर सकते इससे कई प्रॉब्लम आ सकती है।

इसके लिए आपको बिज़नेस करंट अकाउंट को ओपन करना होगा आपके नजदीकी नेशनल बैंक में आप ओपन कर सकते हो। बिज़नेस करंट अकाउंट ओपन करने से पैसे आने या जाने की लिमिट बंद हो जाती है जिससे कोई भी समस्या नहीं होती।

Udyam registration कर ले

उद्यम रजिस्ट्रेशन करना बेहद जरुरी है और ये एक आसान स्टेप है आप खुद भी इसे कर सकते हो। उद्यम रजिस्ट्रेशन करने के बाद आपको कुछ दिन में सर्टिफिकेट मिलता है जिससे आपका बिज़नेस रजिस्टर है ये आप दिखा सकते हो और इससे कोई समस्या आने पर भी आप इसे दिखा सकते हो।

इस प्रमाणपत्र को आप चाहे तो आपके बिज़नेस ऑफिस में भी लगा सकते हो। इसे भी में जल्दी ही लाऊंगा अपने ब्लॉग पर।

GST registration करे

सभी बिज़नेस/कंपनी को GST नंबर निकालना ही पड़ता है। GST नंबर १५ अंको का होता है जो आपको ऑनलाइन GST रजिस्ट्रेशन करने पर कुछ के बाद दिया जाता है।

पर इसके लिए कुछ rules है जैसे आपका बिज़नेस GST केटेगरी में आता है या नहीं ये चेक कर ले अगर नहीं आता है तो GST कोई जरुरत नहीं। दूसरा रूल है की आपके बिज़नेस का वार्षिक कारोबार यानी turnover २० लाख से ऊपर है तो आपको GST नंबर को लेना ही होगा नहीं तो आपका बिज़नेस मुश्किल में भी आ सकता है।

तो ये थे स्टेप्स जिससे आप आपके छोटे बिज़नेस को रजिस्टर कर सकते है। पर क्या हो अगर आपका बिज़नेस कुछ साल बाद बड़ा हो जाये यानी २-३ साल बाद बिज़नेस बढ़ जाता है तो आपको बाकि कुछ documents को भी रजिस्टर करना होगा।

उसमे बोहोत सारे रेजिस्ट्रेशन्स या नंबर्स को आपको लेना होगा। जैसे;

बिज़नेस करते समय ध्यान रखे ये बाते

TAN नंबर को प्राप्त करना।

अगर आप बिज़नेस को किसी दूकान में चलाते हो तो शॉप के लिए लाइसेंस निकालना होगा।

अगर आपके बिज़नेस में लोग काम करते है तो आपको जल्दी ही professional टैक्स का registration करना होगा।

आपको IEC यानी importer exporter कोड के लिए भी रजिस्टर करना होगा।

आपको pollution control board से NOC यानी अनापत्ति प्रमाण पत्र को लेना होगा।

अगर आपका बिज़नेस food यानी खाना इसमें है तो fssai के लिए रजिस्ट्रेशन करना होगा।

अगर आपका बिज़नेस कृषि प्रोडक्ट्स में आता है तो आपको AGMARK के लिए अप्लाई करना होगा।

आपके बिज़नेस को safe यानी सुरक्षित रखने के लिए intellectual property रजिस्ट्रेशन करना होगा। यह करने से आपके बिज़नेस नाम सुरक्षित रहेगा आपने खुद बनाये हुए प्रोडक्ट्स सुरक्षित रहेंगे यानी उनके rights आपके पास होंगे।

अगर आपके बिज़नेस में २० से ज्यादा कर्मचारी काम करते है तो आपको employees provident फण्ड में रजिस्टर करना पड़ेगा।

तो ये कुछ बाते है जिसका ध्यान आपको कुछ समय बाद देना होगा।

निष्कर्ष

तो आपने इसमें देखा की कैसे हम बिज़नेस को legal तरीके से रजिस्टर रजिस्टर कर सकते है। आशा करता हु समझ आया होगा अगर कोई समस्या आती है तो आप मुझे कमैंट्स में सकते हो।

One thought on “Business को legally रजिस्टर कैसे करे | How to legally register your business in Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Scroll to top