Bing Webmaster tool क्या है? Bing Webmaster कैसे चलाये

हेलो दोस्तों क्या आप एक ब्लॉगर हो, या कंटेंट राइटर या फिर क्या आपके पास ब्लॉग्गिंग वेबसाइट है। तो आप गूगल सर्च कंसोल टूल [Google search console] को जानते ही होंगे जिसे पहले गूगल वेबमास्टर के नाम से जाना जाता था।

वैसे तो गूगल एक सर्च इंजन [search engine] है जिसपर लोग अपने लिए जानकारी को सर्च करके पाते है। लेकिन क्या गूगल ही एक सर्च इंजन है? तो नहीं ऐसे कई सारे सर्च इंजन है जो गूगल जैसे ही काम करते है।

कोई भी ब्लॉगर अपने लिखे गए नए आर्टिकल को सिर्फ गूगल पर ही रैंक करता है। जिसमे वो Google search console टूल का यूज़ करके उसके आर्टिकल्स को गूगल में लाता है।

Bing Webmaster tool क्या है? Bing Webmaster कैसे चलाये
Bing Webmaster tool क्या है? Bing Webmaster कैसे चलाये

लेकिन जिस तरह से गूगल सर्च इंजन है वैसे ही माइक्रोसॉफ्ट का भी खुदका सर्च इंजन है जिसका नाम है [Bing] बिंग। दोस्तों बिंग भी एक मशहूर सर्च इंजन है जो कई सारे देशो में इस्तेमाल किया जाता है।

जिस तरह से Chrome ब्राउज़र में गूगल होता है उसी तरह से बिंग सर्च इंजन के लिए इंटरनेट एक्स्प्लोरर [internet explorer] ब्राउज़र है। जो की गूगल के बाद सबसे ज्यादा इस्तेमाल होने वाला सर्च इंजन और ब्राउज़र भी है।

तो जिस तरह से आप अपने आर्टिकल्स को गूगल में रैंक कराने के लिए Google search console को यूज़ करते हो उसी तरह से बिंग के लिए भी बिंग वेबमास्टर टूल [Bing webmaster] होता है। कई सारे ब्लॉगर और SEO स्पेशलिस्ट गूगल के साथ बिंग को भी इस्तेमाल करने की सलाह देते है।

Bing webmaster भी कुछ गूगल कंसोल की तरह ही है पर थोडासा अलग है। तो इस आर्टिकल में आज हम यही देखने वाले है की Bing webmaster क्या है? इसे कैसे इस्तेमाल करे और अपने वेबसाइट को बिंग में कैसे रैंक करे।

शुरू करने से पहले में हमेशा की तरह कहना चाहूंगा की ऐसेही अमेजिंग जानकारी के लिए आप अभी हमारे कम्युनिटी से फ्री में जुड़ सकते है। निचे दिया गया फॉर्म भरके आप अभी जुड़ सकते है।

Subscribe to our newsletter!

[newsletter_form type=”minimal”]

बिंग वेबमास्टर क्या है समझ लिया पर अब बारी है की इसे कैसे इस्तेमाल करे यानी कैसे आप आपकी खुदकी वेबसाइट को इसमें लगा सकते है।

वेबसाइट को बिंग वेबमास्टर में कैसे लगाए

दोस्तों बोहोत आसान है लगाना वेबसाइट को बिंग के वेबमास्टर टूल में। जिस तरह से हम सर्च कंसोल में लगाते है कुछ उसी तरह से आप लगा सकते हो पर और एक आसान तरीका भी है।

सबसे पहले बिंग वेबमास्टर को ओपन कर लेना है।

अगर आपने अपनी वेबसाइट को पहले से ही गूगल कंसोल में लगा के रखा है तो आपको सिर्फ वहासे Import करना है।

बिंग वेबमास्टर में SignIn आपको गूगल से होना होगा पर ध्यान रहे की उसी गूगल मेल से log इन हो जिसपर आपका सर्च कंसोल है।

SignIn होने के बाद अब आपके सामने दो विकल्प पूछे जायेंगे जिस्मसे आपको “Import your sites from GSC” को चुनना। है

वेबसाइट को बिंग वेबमास्टर में कैसे लगाए
वेबसाइट को बिंग वेबमास्टर में कैसे लगाए

अब आपको Import बटन पर क्लिक करना होगा।

फिरसे शायद आपको गूगल अकाउंट को चुनना होगा जिसमे आपने सर्च कंसोल में वेबसाइट लगायी है।

अब आपके वेबसाइट को चुनकर “Continue” पर क्लिक करे और थोड़ी प्रतीक्षा करे।

आपको अब Congrats का मेसेज आया होगा यानी आपकी वेबसाइट बिंग वेबमास्टर में ऐड हो चुकी है।

चलिए अब आपने तो सिख लिया की वेबसाइट कैसे ऐड की जाती है। अब बाकि ऑप्शंस और टूल्स को जान लेते है और सही सेटअप लगाते है।

बिंग वेबमास्टर में उपलब्ध टूल

  • Search performance
  • URL inspection
  • Site explorer
  • Sitemaps
  • URL submission
  • SEO
  • Configuration
  • Tools & enhancement
  • सिक्योरिटी एंड प्राइवेसी

सर्च परफॉरमेंस

नाम से ही पता चलता है की ये आपके वेबसाइट का प्रदर्शन यानी performance बताएगा। इस पेज पर आपको आपके वेबसाइट के पेजेस के बारे में सारी जानकारी मिलेगी जैसे सर्च कंसोल में मिलती है।

इस जगह पर आपको नंबर सहित ग्राफिकल फॉर्म में भी इनफार्मेशन मिलेगी।

सर्च परफॉरमेंस
सर्च परफॉरमेंस

यहापर आपको कितने clicks मिले, कितने impression यानी कितनी बार आपकी वेबसाइट बिंग सर्च में आयी, CTR [क्लिक थ्रू रेट], एवरेज पोजीशन, crawl request और indexed पेजेस कितने हुए।

यही नहीं तो आपकी वेबसाइट के posts कोनसे keywords पर रैंक हो रहे है ये भी आपको दिखायेगा। आप आपके टॉप पेजेस को भी देख सकते हो।

सर्च परफॉरमेंस
सर्च परफॉरमेंस

URL inspection [यूआरएल का निरीक्षण]

ये टूल सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण होता है क्युकी इसी टूल से आप आपके नए पेजेस को सर्च इंजन को कहते हो की मेरा पेज रैंक करो।

जिस तरह से गूगल सर्च कंसोल में भी ये इंस्पेक्शन टूल होता है उसी तरह से बिंग में भी ये है जिसे आप यूज़ कर सकते हो।

URL inspection [यूआरएल का निरीक्षण]
URL inspection [यूआरएल का निरीक्षण]

इसे इस्तेमाल करने ले लिए आपको सिर्फ आपके पेज या पोस्ट का यूआरएल कॉपी कर उसे URL inspection के पेज में एंटर करना है और inspect बटन पर क्लिक करना है।

Site explorer

साइट एक्स्प्लोरर बिंग वेबमास्टर में कुछ सर्च परफॉरमेंस जैसा ही है जो आपके साइट की इनफार्मेशन को आपको दिखाता है। इसमें आपको सर्च इनफार्मेशन के साथ साथ कुछ अन्य जानकारी भी मिलती है।

आपको इसमें Crawl इनफार्मेशन यानी कितने यूआरएल index हुए, कितने नहीं, कोई error तो नहीं है। और folder इनफार्मेशन यानी आपके साइट में टोटल कितने यूआरएल है, उसमे क्लिक कितने हुए, इम्प्रेशंस कितने आये और आपको बैकलिंक्स कितने मिले ये सारी माहिती देता है। यही नहीं तो और भी कुछ देता है जो आप देख सकते हो।

Sitemaps [साइटमैप्स]

ये टूल सारे वेबमास्टर में होता है जो आपके वेबसाइट में के सारे urls को समझाता है और यहिसे उन्हें सर्च में भी लाता है।

आपके वेबसाइट में sitemap के लिए एक पेज बना होता है जो आपके सारे urls को sitemap.xml के पेज पर रिकॉर्ड रखता है।

बिंग वेबमास्टर में आप Sitemap पर क्लिक करके Sitemap को सबमिट कर सकते हो।

URL submission [यूआरएल को जमा करना]

दोस्तों ये एक अलग टूल है बिंग वेबमास्टर में जो सबसे महत्वपूर्ण है। जिस तरह से सर्च कंसोल में यूआरएल इंस्पेक्ट करके index किये जाते है लेकिन यहाँ बिंग में URL submission टूल में हर एक यूआरएल को सबमिट करके इंडेक्स होते है।

URL submission [यूआरएल को जमा करना]
URL submission [यूआरएल को जमा करना]

जिस तरह से हम sitemap को सबमिट करते है उसी तरह से इसे भी किया जाता है।

जिस पेज को आपको इंडेक्स करना है उसका यूआरएल आपको कॉपी करना होगा उसके बाद URL submission के पेज पर आकर इसे सबमिट करना होगा।

SEO [वेबसाइट का सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन]

SEO को तो सारे लोग जानते ही होंगे ये बिंग में नया और अलग टूल है जो आपको आपके वेबसाइट के SEO के बारे में जानकारी देता है।

इसमें आपको backlinks, keyword रिसर्च, seo रिपोर्ट्स और साइट स्कैन करने को मिल जाता है।

साइट स्कैन ये बोहोत ही बढ़िया ऑप्शन है जिसमे आप आपके वेबसाइट को स्कैन करते हो और बिंग आपको रिपोर्ट्स देता है जिसमे कोई errors या warnings बताई जाती है।

Configuration [कॉन्फ़िगरेशन]

ये भी एक अच्छा टूल है जिसमे आप आपके वेबसाइट के crawl को कण्ट्रोल कर सकते हो और किसी पेज को रैंक नहीं करना है तो उसे noindex कर सकते हो।

अगर आपके वेबसाइट कोई ऐसा पोस्ट या पेज है जिसे आपको बिंग सर्च में दिखाना नहीं है तो आप Block URLs को इस्तेमाल कर सकते हो।

तो ये थे कुछ इम्पोर्टेन्ट बिंग वेबमास्टर के टूल्स जिसे आपको पता होना चाहिए की कैसे यूज़ करते है।

निष्कर्ष

तो दोस्तों आपने इस आर्टिकल में देखा की कैसे आप आपकी किसी भी वेबसाइट को बिंग वेबमास्टर में ऐड कर सकते हो। और कैसे बिंग के टूल्स को इस्तेमाल कर सकते ही।

आशा करता हु समझ आया होगा ऐसेही जानकारी के लिए फ्री में हमारी कम्युनिटी से जुड़े।

Subscribe to our newsletter!

[newsletter_form type=”minimal”]

Similar Posts